मोदी सरकार की कूटनीतिक जीत, फ्रांस ने सुरक्षा परिषद में स्थायी सदस्यता का किया समर्थन

संयुक्त राष्ट्र।… फ्रांस ने संयुक्त राष्ट्र में समकालीन हकीकत को प्रदर्शित करने के लिए विस्तारित संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में भारत की स्थायी सदस्यता का समर्थन किया है। गौरतलब है कि फ्रांस पहले से ही सुरक्षा परिषद का स्थायी सदस्य है और उसके पास वीटो पावर है।

संयुक्त राष्ट्र में फ्रांस के स्थायी प्रतिनिधि फ्रांकोइ डेलात्रे ने संयुक्त राष्ट्र के गठन के 70 साल बाद द्वितीय विश्व युद्ध के पीड़ितों की याद में महासभा के एक सत्र में कहा कि 2015 की दुनिया 1945 के वक्त की नहीं है।

उन्होंने कहा, ‘हम आज जिस दुनिया में रहते हैं उसे दिखाने के लिए संयुक्त राष्ट्र को अमल करना चाहिए और सुधार करना चाहिए। इस संबंध में सुरक्षा परिषद का सुधार तत्काल होना चाहिए और यह महत्वपूर्ण है।’ फ्रांस के दूत के बयान के अंग्रेजी अनुवाद के मुताबिक, ‘फ्रांस स्थायी और अस्थायी दोनों श्रेणियों की सदस्यता के विस्तार का समर्थन करता है और जर्मनी, जापान का समर्थन करता है, जो इसका हकदार है साथ ही भारत, ब्राजील और अफ्रीकी नुमाइंदगी का भी।’ फ्रांस के अलावा अन्य स्थायी सदस्यों में- अमेरिका, ब्रिटेन और रूस ने भी सुधार के बाद सुरक्षा परिषद के स्थायी सदस्य के तौर पर भारत की उम्मीदवारी का समर्थन किया है।

जापान, जर्मनी और ब्राजील के साथ दुनिया का सबसे बड़ा लोकतंत्र और उभरती हुई अर्थव्यवस्था तथा वैश्विक शक्ति भारत के बारे में कहा जाता है कि संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में स्थायी सीट का वास्तविक हकदार है।