चंपावत में रसोई गैस की किल्लत ने लिया विकराल रूप

जिला मुख्यालय चंपावत में रसोई गैस की किल्लत अब विकराल रूप धारण करती जा रही है। दो दिन बाद रसोई गैस आई, तो लोगों का हुजूम उमड़ा गया और लंबी लाइन लग गई। घंटों इंतजार के बाद 55 से ज्यादा उपभोक्ता सिलेंडर पाए बगैर बैरंग लौटने को मजबूर हो गए।

चंपावत में आमतौर पर रसोई गैस सिलेंडर का संकट नहीं होता था। लेकिन पिछले तीन महीनों से सिलेंडर को लेकर लोग मुसीबत झेल रहे हैं। चंपावत गैस केंद्र में 14800 उपभोक्ता हैं। छह हजार सिलेंडरों की मांग हर माह है, लेकिन अप्रैल में सिलेंडरों की आमद 4814 हुई। इस कारण यहां 1200 सिलेंडरों का बैकलॉग बचा है।

शुक्रवार को भी यहां गैस केंद्र में सिलेंडर पहुंचते ही तीन घंटे में सिलेंडर बंट गए। लंबी मशक्कत के बाद भी करीब 55 उपभोक्ताओं को सिलेंडर नहीं मिल पाए। बैरंग लौटे लोगों ने गैस केंद्र में अव्यवस्थाओं का आरोप लगाया है। उन्होंने वितरण व्यवस्था का पारदर्शी और तर्कपूर्ण तरीका अपनाने की मांग की है।

उधर गैस केंद्र के सहायक प्रभारी प्रकाश मुरारी का कहना है कि प्लांट से गैस आपूर्ति नियमित रूप से नहीं होने से दिक्कत आ रही है। प्लांट से ज्यादा सिलेंडरों की आपूर्ति के लिए आग्रह किया गया है।