नेपाल : मृतकों की संख्या 15,000 तक हो सकती है, मलबे से दो जिंदा निकाले गए

विनाशकारी भूकंप से तबाह हुए नेपाल में गुरुवार को बारिश वाले दिन मलबे से एक किशोर और एक महिला को जिंदा निकाले जाने के वक्त थोड़ी खुशी का लम्हा आया, जबकि तीन हल्के झटकों से लोग सहम गए। वहीं, नेपाल के सेना प्रमुख ने इस आपदा में मरने वाले लोगों की संख्या 15,000 पहुंच सकने की आशंका जताई है।

एक लंबी खामोशी के बीच उस वक्त खुशी की लहर दौड़ गई, जब 15 साल के पेम्बा लामा को सात मंजिला भवन के मलबे से जिंदा निकाला गया। इससे और लोगों के जीवित निकालने जाने की उम्मीद बढ़ गई है। वहीं, बारिश एवं रिक्टर पैमाने पर 3.9 और 4.7 की तीव्रता से आए झटकों के चलते राहत कार्य प्रभावित हुआ।

नुवाकोट निवासी धूल से सने लामा को पांच घंटे के बचाव अभियान के बाद सुरक्षित निकाला गया और उसे एक अस्पताल ले जाया गया। भक्तपुर शहर में मलबे से चार महीने के एक शिशु को जिंदा निकाले जाने के बाद यह किशोर करिश्मे के तहत बचने वाले एक और व्यक्ति है।

खबरों के मुताबिक कुछ घंटों बाद करीब 30 साल की महिला कृष्णा देवी खडका को कुछ दूरी पर मलबे से निकाला गया। वह काठमांडू के मुख्य बस टर्मिनल के पास वाले इलाके में फंसी हुई थी, जहां काफी सारे होटल हैं।

अब तक 5700 लोगों की मौत

earthquake3

नेपाल में 25 अप्रैल को आए विनाशकारी भूकंप में मरने वालों की संख्या गुरुवार को 5,700 हो गई जबकि लगभग 12,000 लोग घायल हुए हैं। अधिकारियों ने गुरुवार शाम को यह जानकारी दी। इस विनाशकारी भूकंप में सबसे अधिक मौतें सिंधुपालचौक जिले में हुई हैं। यहां पर 1587 लोगों की जान गई है। वहीं काठमांडू में 1,039, नुवाकोट में 707, धाडिग में 527, कावरे में 275, भक्तपुर में 252 और ललितपुर जिले में 168 लोगों की मौत हुई है।

गृहमंत्रालय के अधीन आने वाले नेशनल इमरजेंसी ऑपरेशन सेंटर के मुताबिक इस आपदा में अभी तक 11,538 लोग घायल हुए हैं। अधिकारियों ने कहा कि यह आंकड़ा अभी और बढ़ सकता है। प्रधानमंत्री सुशील कोइराला ने चेताया है कि मृतकों की संख्या 10,000 पहुंच सकती है।

nepal2

नेशनल इमरजेंसी ऑपरेशन सेंटर ने भूकंप में 13 लाख घरों के पूरी तरह से और 85,856 घरों के आंशिक रूप से प्रभावित होने की बात कही है। 10,000 से अधिक सरकारी इमारतें इस जलजले में पूरी तरह से ध्वस्त हो चुकी हैं।

इसी बीच गुरुवार को सुबह छह बजे से नौ बजे के बीच तीन झटके महसूस किए गए। राष्ट्रीय भूकंप केंद्र के मुताबिक पहले दो झटकों की रिक्टर पैमाने पर तीव्रता 4.7 मापी गई जबकि तीसरे झटके की तीव्रता 3.9 मापी गई।