नैनीताल से करीब आठ किलोमीटर दूर किलबाड़ी में बुधवार को नयनादेवी हिमालयन बर्ड कंजर्वेशन रिजर्व का उद्घाटन किया गया। यह प्रदेश में अपनी तरह का पहला पक्षी संरक्षण रिजर्व है।

पक्षी संरक्षण रिजर्व का उद्घाटन करते हुए प्रदेश के वन मंत्री दिनेश अग्रवाल ने राज्य में इको टूरिज्म को बढावा दिए जाने की जरूरत पर बल देते हुए कहा कि इससे न केवल विविधतापूर्ण पर्यटन को प्रोत्साहन मिलेगा बल्कि इससे नैनीताल जैसे पहले से प्रतिष्ठित पर्यटक स्थलों पर भी दबाव कम होगा।

मुख्य वन संरक्षक धनंजय मोहन ने बताया कि यह प्रदेश का अपनी तरह का पहला संरक्षण रिजर्व है जो खास तौर से पक्षियों की प्रजातियों के संरक्षण के लिए समर्पित होगा।

birds

उन्होंने बताया कि नैनीताल वन प्रभाग के 12 क्षेत्रों में करीब 11,192 वर्ग हेक्टेयर में फैले इस पक्षी संरक्षण रिजर्व में ओक का घना जंगल है जो पक्षियों के लिए आदर्श वासस्थल माना जाता है। अतिरिक्त मुख्य वन संरक्षक डीवीएस खाती ने कहा कि यह पक्षी संरक्षण रोजगार सृजन में भी महत्वपूर्ण होगा।