भ्रष्ट्राचार पर नैनीताल हाईकोर्ट हुआ सख़्त, जज को किया सस्पेंड

नैनीताल उच्च न्यायालय ने भ्रष्ट्राचार के खिलाफ एक मज़बूत कदम उठाते हुए 27 मार्च को आदेश जारी कर एडिशनल चीफ ज्यूडिशियल मजिस्ट्रेट काशीपुर, (ऊधमसिंह नगर) अनुराधा गर्ग को निलंबित कर दिया है.
[manual_related_posts]
यह आदेश रजिस्ट्रार जनरल डीपी गैरोला द्वारा मुख्य न्यायाधीश के निर्देश पर दिए गए.

गर्ग को उनके विरुद्ध प्रारंभिक जांच रिपोर्ट में अनियमितताएं व भ्रष्टाचार की बात सामने आने पर निलंबित किया गया है. मामले में हाईकोर्ट के रजिस्ट्रार ज्यूडिशियल नरेंद्र दत्त ने जांच अधिकारी के रूप में 24 मार्च 2015 को रिपोर्ट चीफ जस्टिस के समक्ष पेश की. रिपोर्ट में अनियमितता और भ्रष्टाचार की बात कही गई थी.

जारी आदेश में अनुराधा गर्ग को जिला न्यायालय रुद्रपुर से संबद्ध करते हुवे यह भी कहा गया है कि बिना जिला जज, ऊधमसिंह नगर, की अनुमति के वह अवकाश पर नहीं जा सकती हैं.