फ्रांस : को-पायलट ने जानबूझकर क्रैश कराया विमान’

पेरिस।… फ्रांस में हुई जर्मनविंग्स विमान दुर्घटना मामले में फ्रांस के सरकारी अभियोजक ने गुरुवार को कहा कि जर्मनविंग्स के विमान ए320 को जानबूझकर उसके के-पायलट ने क्रैश किया था, जिसमें कुल 150 लोगों की जान चली गई। फ्रेंच अभियोजक ब्राइस रॉबिन ने मर्सिले में एक संवाददाता सम्मेलन मे गुरुवार को कहा कि विमान को दुर्घटनाग्रस्त करने के लिए पायलट एंड्रियाज जी लूबिट्ज की गतिविधियों का विश्लेषण किया जाएगा।

स्पेन की समाचार एजेंसी एफे के मुताबिक, अभियोजक ने संवाददाताओं से कहा कि दुर्घटना स्थल से बरामद कॉकपिट वाइस रिकॉर्डर में रिकॉर्ड बातचीत को सुनने के बाद वे इस निष्कर्ष तक पहुंचे हैं। समाचार चैनल बीबीसी के मुताबिक, लुफ्तहांसा के अधिकारियों ने संवाददाताओं से कहा कि जान-बूझकर जर्मनविंग्स के विमान को दुर्घटनाग्रस्त करने पर वह स्तब्ध हैं, क्योंकि को-पायलट की आतंकवाद की कोई पृष्ठभूमि नहीं है। लूबिट्ज साल 2013 में कंपनी में शामिल हुए थे और उन्हें 630 घंटे विमान उड़ाने का अनुभव था।

germanwings1

लुफ्तहांसा के मुख्य कार्यकारी कार्स्टन स्पोहर ने इसे सबसे भयानक घटना करार दिया। रॉबिन ने कहा कि बार्सिलोना से उड़ान भरने के कुछ देर बाद 28 वर्षीय को-पायलट ने जानबूझकर दरवाजा खोलने से इंकार कर दिया। उन्होंने कहा कि उड़ान के पहले 20 मिनट तक दोनों के बीच सामान्य ढंग से बातचीत होती रही। इसके बाद पायलट कॉकपिट से बाहर गए। सीट के घूमने और दरवाजा बंद होने की आवाज साफ सुनी जा सकती है। पायलट द्वारा को-पायलट को दरवाजा खोलने के लिए लगाई गई आवाज भी सुनी जा सकती है।

अंतिम क्षणों तक को-पायलट जिंदा था, क्योंकि उसके सांसों की आवाजें सुनी जा सकती हैं, लेकिन उसने पायलट को कोई प्रतिक्रिया नहीं दी। अंतिम 10 मिनटों के दौरान कोई बातचीत नहीं हुई। जिस वक्त पायलट दरवाजा खोलने के लिए कह रहे थे, विमान का नीचे आना शुरू हो गया था। रॉबिन के मुताबिक, इस बात के कोई संकेत नहीं मिले हैं कि को-पायलट एक आतंकवादी था।

germanwings-crash-alps

स्पेन के बार्सिलोना से जर्मनी के डसेलडॉर्फ जा रहा जर्मनी की किफायती विमान सेवा जर्मनविंग्स का एयरबस ए320 विमान मंगलवार को फ्रेंच आल्प्स (फ्रांसीसी पहाड़ी क्षेत्र) के आल्पस-डे-हौते राज्य में दुर्घटनाग्रस्त हो गया था। विमान में सवार सभी 150 यात्रियों की दुर्घटना में मौत हो गई थी, जिनमें 144 यात्री और छह विमान कर्मचारी शामिल थे।