एक महीने बाद होंगे गंगोत्री-यमुनोत्री के दर्शन, 21 अप्रैल को खुलेंगे कपाट

अक्षय तृतीया यानी 21 अप्रैल को गंगोत्री और यमुनोत्री मंदिर के कपाट श्रद्धालुओं के दर्शनों के लिए खोल दिए जाएंगे। चैत्र नवरात्र के शुभारंभ पर शनिवार को हुई गंगोत्री मंदिर समिति की बैठक में शुभ मुहूर्त तय किया गया। मंदिर समिति के सचिव सुरेश सेमवाल ने बताया, गंगोत्री मंदिर के कपाट 21 अप्रैल को 12.30 बजे कर्क लग्न में खोले जाएंगे।
[manual_related_posts]

20 अप्रैल को शीतकालीन मठ मुखबा से दोपहर डेढ़ बजे मां गंगा की डोली गंगोत्री के लिए रवाना होगी, जो रात को भैरोंघाटी स्थित भैरव मंदिर में रहेगी और 21 अप्रैल की सुबह गंगोत्री पहुंचेगी। यमुनोत्री मंदिर समिति के सचिव मनमोहन उनियाल ने बताया कि यमुनोत्री मंदिर के कपाट 21 अप्रैल को खुलेंगे। शुभ मुहूर्त भी एक-दो दिन में तय कर लिया जाएगा।

यमुना की डोली 21 अप्रैल सुबह शीतकालीन मठ खरसाली गांव से यमुनोत्री के लिए रवाना होगी।

इससे पहले बद्रीनाथ और केदारनाथ मंदिर के कपाट खुलने की तारीखें तय हो चुकी हैं। बद्रीनाथ मंदिर के कपाट 26 अप्रैल और केदारनाथ मंदिर के कपाट 24 अप्रैल को श्रद्धालुओं के लिए खोल दिए जाएंगे।