काशीपुर : आश्रम पर कच्छा-बनियान गिरोह का धावा, लाखों लूटे

काशीपुर में कच्छा-बनियान गिरोह के करीब 12 सदस्यों ने मोहल्ला टांडा उज्जैन में पुलिस चौकी से मात्र 200 मीटर की दूरी पर स्थित कुष्ठ आश्रम में जमकर तांडव मचाया।

उन्होंने तमंचे के दम पर करीब ढाई लाख की नगदी और जेवरात लूट लिए। आश्रम संचालक ने पुलिस में मामले की शिकायत की है। मोहल्ला टांडा उज्जैन में बाबा आम्टे कुष्ठ आश्रम है। आश्रम के अंदर करीब 6 परिवार झोपड़ी बनाकर रहते हैं।

रविवार देर रात करीब डेढ़ बजे कच्छा-बनियान पहने करीब 12 बदमाश हाथों में तमंचे, क्रिकेट के बैट, डंडे और चाकू लेकर आश्रम का दरवाजा तोड़कर अंदर घुस गए। बदमाशों ने झोपड़ियों के अंदर घुसते ही लोगों से मारपीट की, तमंचों के दम पर बक्सों में रखी लाखों रुपये की नगदी और जेवरात लूट लिए।

बदमाश बाद में आश्रम के बाहर भी तीन झोपड़ियों से नगदी और जेवरात लूट ले गए। आश्रम संचालक अब्दुल गनी ने बताया कि डकैत आश्रम समिति के फंड के रखे एक लाख रुपये, पोती की शादी के लिए बनाकर रखे गए 35 हजार के जेवरात ले गए।

जबकि अब्दुल सईद के यहां से पांच हजार, भृगराशन यादव के घर से 10 हजार के जेवर और तीन हजार की नगदी, वशीर के यहां से दो बक्से और पांच हजार की नगदी, असलम के घर से 38 सौ रुपये और एक मोबाइल लूट ले गए।

आश्रम के बाहर इकराम की झोपड़ी से 20 हजार के जेवर और पांच हजार की नगदी, अनवर के यहां से 10 हजार और बैंक पासबुक, नूरजहां के घर से 8 हजार के जेवर और 10 हजार की नगदी लेकर दढियाल बस अड्डे की ओर फरार हो गए। लूट की खबर मिलते ही एएसपी कमलेश उपाध्याय, सीओ प्रकाश चंद, टांडा उज्जैन चौकी इंचार्ज अशोक कुमार सिंह मौके पर पहुंचे।

डकैतों ने आश्रम में धावा बोलने से पहले पास में ही स्थित हगनिया कॉलोनी के मकानों में बाहर से कुंडी लगा दी। ताकि शोर-शराबा होने पर कोई घर से बाहर न निकल सके। लूटपाट करने वाले सभी डकैत मजबूत कद-काठी के थे। वे खुद को पुलिसकर्मी बता रहे थे। आश्रम में रह रहे लोगों ने बताया कि सभी डकैत लंबे और कच्छा-बनियान पहने हुए थे। उन्होंने सिर पर कपड़ा बांधा था। वे स्थानीय भाषा नहीं बोल रहे थे। उन्होंने शरीर पर तेल लगा रखा था। सभी बदमाश पैदल ही थे।

अंदेशा है कि उन्होंने दढियाल बस अड्डे के पास गाड़ी खड़ी की होगी। पीड़ितों ने घटना का जल्द खुलासा न होने पर आंदोलन की धमकी दी है। एएसपी कमलेश उपाध्याय ने कहा कि जल्द ही मामले का खुलासा कर दिया जाएगा।

पुलिस के शक की सुई खानाबदोशों पर घूम रही है। करीब एक साल पहले गदरपुर में भी इसी तरह की घटना हुई थी। इसमें कच्छा-बनियान गिरोह ने झोपड़ियों को ही निशाना बनाया था। तब पुलिस ने शाहजहांपुर क्षेत्र से करीब छह खानाबदोशों को गिरफ्तार किया था। पुलिस सूत्रों के अनुसार यह घटना भी उससे मिलती जुलती है। बताया कि खानाबदोश अधिकतर झोपड़ी व झालों को ही निशाना बनाते हैं। पुलिस टीम को यूपी क्षेत्र में रवाना कर दिया गया है।