देहरादूनः FRI कैम्पस में आदमखोर गुलदार ने ली किशोरी की जान

उत्तराखंड की अस्थायी राजधानी देहरादून के एफआरआई परिसर में 17 साल की लड़की पर शनिवार शाम करीब 7 बजे गुलदार ने हमला कर दिया और उसे ‌घसीटता हुआ ले गया. जिस समय गुलदार ने किशोरी पर तब हमला किया उस समय वह घर के बाहर मोबाइल फोन पर बात कर रही थी.
[manual_related_posts]

शोर मचने पर गुलदार भाग गया, लेकिन उसने किशोरी की गर्दन को दबोची हुई थी, जिससे वह गंभीर रूप से घायल हो गई. गुलदार के मुंह से छूटने के बाद वह खून से लथपथ हो गई. किशोरी को अस्पताल ले जाया गया, लेकिन उसकी जान नहीं बचाई जा सकी. भागते समय गुलदार ने लड़की के कुत्ते पर भी हमला करके घायल कर गया. जिस समय गुलदार ने हमला किया उस समय परिसर में बिजली तो थी, लेकिन घर के बाहर अंधेरा था. घटना के समय किशोरी के मां-बाप घर पर नहीं थे.

किशोरी पर गुलदार के हमले के बाद वन विभाग और भारतीय वन अनुसंधान संस्थान (एफआरआई) के अधिकारियों पर वहां रह रहे लोगों का गुस्सा फूट पड़ा. लोगों ने अधिकारियों को घेर लिया और समय पर उचित कदम नहीं उठाने के आरोप लगाए. लोगों का कहना था कि इससे पहले भी बार-बार गुलदार को यहां देखा जाता रहा है, लेकिन दोनों ही विभागों के अधिकारी सुरक्षा के उपाय नहीं करते हैं.

हालात बिगड़ते देख प्रभागीय वन अधिकारी ने गुलदार को आदमखोर घोषित करके तुरंत मारने के आदेश दे दिए. पीड़ित परिवार को एक लाख रुपये की अनुग्रह राशि तत्काल देने की घोषणा भी की गई है. बाकी के दो लाख रुपये बाद में दिए जाएंगे. इस साल अब तक देहरादून में गुलदार ने दूसरी जान ली है. इससे पहले फुलसणी में एक मासूम को मार डाला था.

एफआरआई परिसर में यह पहली दर्द विदारक घटना है. वन विभाग और पुलिसकर्मी पूरी रात गुलदार की तलाश करते लेकिन वह पकड़ में नहीं आया.