हरिद्वारः ओलावृष्टी के कारण किसानों को हुआ 50 करोड़ का नुकसान

बेमौसम बरसात और ओलावृष्टी के कारण हरिद्वार जिले के किसानों को करीब 50 करोड़ रुपये का नुकसान हो गया है. अकेले गेहूं की फसल को 44 करोड़ रुपये का नुकसान होने का अनुमान है. सरसों की फसल को भी करीब पौने तीन करोड़ रुपये का नुकसान हुआ है. दिसंबर से अब तक करीब 100 मिलीमीटर बारिश हो चुकी है.
[manual_related_posts]

बेमौसम बारिश की शुरुआत पिछले साल 13 दिसंबर से हुई थी. दिसंबर महीने में 23.2 मिलीमीटर बारिश हुई, जबकि जनवरी में 12 मिलीमीटर. फरवरी में थोड़ी राहत मिली, लेकिन मार्च के महीने में अब तक 56.6 मिलीमीटर बारिश हो चुकी है. बारिश के साथ ओले भी पड़े हैं.

बारिश और ओलों ने किसानों की कमर तोड़कर रख दी है. गेहूं और सरसों की फसलों को ज्यादा नुकसान पहुचा है. जिला कृषि अधिकारी जेपी तिवारी के अनुसार गेहूं की फसल को करीब 20 फीसदी और सरसों की फसल को करीब 25 प्रतिशत तक का नुकसान हुआ है. अन्य फसलों को भी आंशिक नुकसान हुआ है. जिले में किसानों को करीब 50 करोड़ रुपये के नुकसान का अनुमान लगाया जा रहा है.