योगगुरु बाबा रामदेव कूड़े से बनाएंगे ईंधन

योगगुरु बाबा रामदेव के ‘प्रबंधन’ से अब न केवल रुड़की के कूड़े का निस्तारण होगा, बल्कि इससे ईंधन भी बनेगा. पतंजलि योगपीठ के कचरा प्रबंधन विभाग के अधिकारियों ने नगर निगम को कूड़े से ईंधन बनाने का फॉर्मूला बताया है. प्रोजेक्ट के तहत अत्याधुनिक मशीनें कूड़े का वर्गीकरण कर इससे ईंधन बनाएंगी.
[manual_related_posts]

इसके मद्देनजर सॉलियर स्थित कई बीघा जमीन में डंप कूड़े का निरीक्षण किया गया. जल्द ही इस योजना के परवान चढ़ने की उम्मीद की जा रही है. शहर से रोजाना निकलने वाला 50 टन कूड़ा नगर निगम के लिए सिरदर्द बना हुआ है.

नगर निगम सॉलियर स्थित करीब 25 बीघा जमीन में इसे डंप करता है. यहां पर कूड़े की पहाड़ियां खड़ी हो गई हैं. इस कूड़े में पॉलीथिन, प्लास्टिक सहित कई प्रकार के हानिकारक पदार्थ जमा हैं, जिससे वातावरण प्रदूषित हो रहा है. मंगलवार को निगम ने पतंजलि के अधिकारियों को सॉलियर स्थित जमे कूड़े को दिखाया है.

पतंजलि कचरा प्रबंधन विभाग के परियोजना प्रबंधक रंजीत पाटिल ने बताया इसके तहत मशीनों से पहले कूड़े का वर्गीकरण किया जाएगा, इसके बाद इससे कई तरह का ईंधन बनाया जाएगा. इस ईंधन को न केवल ईंट भट्टों में इस्तेमाल किया जा सकेगा, बल्कि गाड़ियों में भी इसका इस्तेमाल हो पाएगा.

परियोजना में सभी काम हाईटेक तरीके से होंगे. प्रोजेक्ट मैनेजर रंजीत पाटिल ने बताया कि सालों से इकट्ठा कूड़े की मात्रा सामान्य तौर-तरीकों से नहीं आंकी जा सकती. इसका सेटेलाइट तकनीक से पता लगाया जाएगा.

प्रोजेक्ट के लिए जर्मनी से मशीन मंगाई जाएगी. जो कूड़े को ईंधन के रूप में परिवर्तित करेगी. मेयर यशपाल राणा ने बताया कि पतंजलि योगपीठ के प्रस्ताव पर अध्ययन किया जा रहा है. परियोजना की लागत और आय पर विचार करने के बाद यह तय किया जाएगा कि किस तरह कूड़ा निस्तारण के साथ-साथ आय का जरिया भी बनाया जा सके.