विधानसभा सत्र और झंडा मेला शुरू, दूनवासियों की बढ़ी मुसीबत

उत्तराखंड की अस्थायी राजधानी देहरादून में अगले दस दिन आम लोगों के लिए मुसीबत भरे होने वाले हैं. आज यानी बुधवार 11 मार्च से विधानसभा का बजट सत्र शुरू हो रहा है और झंडा मेला भी बुधवार से ही शुरू हो रहा है.

इस दौरान विधानसभा के आसपास प्रदर्शनों का दौर शुरू हो जाएगा और झंडा मेला में विभिन्न राज्यों से संगत के पहुंचने के सिलसिले से सड़कों पर जबरदस्त जाम लगना पहले से ही तय माना जा रहा है. सड़कों पर बैरिकेडिंग, रूट डायवर्जन और यातायात दबाव देहरादून वासियों की मुश्किलें बढ़ाने वाले हैं.
[manual_related_posts]

पुलिस अधिकारी भी मानते हैं कि उनकी यह परीक्षा असल में जनता के लिए असुविधा बनने वाली है. वैसे पुलिस महकमे की ओर से व्यवस्था ठीक बनाए रखने का दावा भी किया जा रहा है. लेकिन अधिकारी लोगों से अपील भी कर रहे हैं कि परेशानी से बचने के लिए बहुत जरूरी काम होने पर ही मुख्य मार्गों पर निकलें.

विधानसभा का बजट सत्र वैसे तो 10 दिन तक चलेगा, लेकिन दो दिन छुट्टी के चलते एक हफ्ता आम जनता पर भारी गुजरेगा. वैकल्पिक व्यवस्था ना होने से इस बार भी सत्र मुसीबतों वाला ही रहने वाला है.

विधानसभा के पास सात जगहों पर पुलिस ने बैरिकेट लगाए हुए हैं. विधानसभा सत्र चलने के दौरान होने वाले प्रदर्शनों के समय बैरिकेट बंद कर संबंधित मार्गों पर आवाजाही बंद कर दी जाएगी. विधानसभा तिराहा, रिस्पना पुल, डिफेंस कॉलोनी रोड, प्रगति विहार, शास्त्रीनगर, राजीव नगर, हरिद्वार बाईपास पर बैरिकेट लगाकर कड़ी चौकसी बरती जा रही है.

बजट सत्र के दौरान तीन अपर पुलिस अधीक्षक, सात पुलिस उपाधीक्षक, 22 इंस्पेक्टर और थाना प्रभारी, 38 दारोगा, पांच महिला दारोगा, 50 महिला कांस्टेबल, 170 कांस्टेबल और 18 प्लाटून पीएसी तैनात रहेगी. प्रदर्शन और यातायात के लिए अलग से पुलिसकर्मियों की ड्यूटी लगाई गई है. पिछले सत्र के मुकाबले इस बार 20 सिपाही और दारोगा ज्यादा तैनात किए गए हैं.