रानीखेत: हॉस्टल वार्डन कई महीनों से कर रहा था छात्र के साथ कुकर्म

अल्मोड़ा जिले के रानीखेत में वीरशिवा स्कूल के हॉस्टल में छात्र के साथ कुकर्म का सनसनीखेज मामला सामने आया है. आरोप है कि हॉस्टल वार्डन कई दिनों से किशोर का शारीरिक शोषण कर रहा था. यही नहीं वार्डन ने शिकायत करने पर जान से मारने की धमकी भी दी थी.
[manual_related_posts]

जब कई दिनों बाद भी यह सिलसिला नहीं थमा तो अवसाद ग्रस्त छात्र ने आत्महत्या का मन बना लिया और अपने पिता को आपबीती सुनाई तो वास्तविकता का खुलासा हुआ. छात्र के पिता टीचर हैं और उनकी शिकायत पर वार्डन के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया गया है. पुलिस के मुताबिक गर्दन फंसती देख आरोपी ने विद्यालय से त्यागपत्र दे दिया है. पुलिस ने भी मामले की जांच शुरू कर दी है.

देघाट भिकियासैंण तहसील (स्याल्दे) के एक स्कूल में तैनात टीचर का 14 वर्षीय बेटा चिलियानौला स्थित वीरशिवा स्कूल में नवीं का छात्र है. पिछले साल ही किशोर ने स्कूल में एडमिशन लिया और हॉस्टल में रहने लगा था. आरोप है कि कुछ महीने बाद ही हॉस्टल वार्डन राजेंद्र सिंह मेहता छात्र के साथ गलत हरकतें करने लगा. शिकायत के अनुसार वह किशोर को मोबाइल पर अश्लील फिल्में दिखाता, फिर जबरन अप्राकृतिक यौनकृत्य करता था. आए दिन शारीरिक शोषण से छात्र अवसाद में रहने लगा.

यह भी आरोप है कि वार्डन ने शिकायत पर जान से मारने की धमकी दी थी. उसने छात्र के परिजनों से बात करने पर पाबंदी लगा दिया था. बीते 12 फरवरी को वार्डन ने फिर वही हरकत दोहराई. छात्र को मोबाइल दे दिया. इसके बाद जोर जबरदस्ती करने लगा तो किशोर ने शोर मचा दिया. शिकायत के मुताबिक उसी रात प्रशासक व प्रधानाचार्य को शारीरिक शोषण से अवगत करा दिया था. लेकिन सुनवाई नहीं हुई.

इसके बाद किसी तरह छात्र ने अपने शिक्षक पिता से संपर्क किया और आपबीती सुनाई. साथ ही हॉस्टल से न निकलवाने पर भाग जाने या आत्महत्या की बात कही. इस पर परिजन तत्काल प्रशासक से मिले तो मामले का खुलासा हुआ. इधर सोमवार को शिकायत पर पुलिस ने वार्डन के खिलाफ लैंगिक अपराधों से बाल संरक्षण एक्ट (पॉक्सो) व अन्य धाराओं में मुकदमा दर्ज कर लिया है. जांच एसएसआइ वीएस फर्त्याल को सौंपी गई है. फिलहाल गिरफ्तारी नहीं हो सकी है. उधर प्रशासक शाहिद रजा के अनुसार वार्डन ने दो दिन पहले ही इस्तीफा दे दिया है.