राज्यसभा सीट के लिए कांग्रेस अब भी कस्मकश

लगता है कि कांग्रेस उत्तराखंड से राज्यसभा के उम्मीदवार का फैसला इस बार भी अंतिम समय में ही करेगी. रविवार देर शाम तक भी उम्मीदवार के नाम पर कयासबाजी का दौर जारी था.

कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष किशोर उपाध्याय दिल्ली में डेरा डाले हुए हैं. कुछ कांग्रेसी नेताओं के मुताबिक खुद कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष भी इस दौड़ में शामिल हैं लेकिन किशोर ने इससे साफ इंकार कर दिया है. उन्होने बताया कि लिस्ट हाईकमान के पास है और फैसला भी हाईकमान को ही करना है.

मनोरमा शर्मा डोबरियाल के निधन की वजह से खाली हुई राज्यसभा की सीट को भरने के लिए कांग्रेस में कई दिनों से धड़ेबाजी और लॉबिंग चल रही है. संगठन सूत्रों के मुताबिक तो दिल्ली में हाईकमान को करीब 20 नाम भेजे गए हैं.
[manual_related_posts]

शायद यही कारण है कि कांग्रेस के वरिष्ठ नेता दावेदारों को तैयारी करने के लिए भी नहीं कह पा रहे हैं. दूसरी ओर बीजेपी के मैदान में न उतरने और कांग्रेस के पास संख्याबल अधिक होने के कारण भी पार्टी उम्मीदवार की जीत तय है. ऐसे में पार्टी उम्मीदवार बनने को लेकर भी कांग्रेस में खासा पसीना बहाया जा रहा है.

पिछले कुछ दिनों से किशोर उपाध्याय का नाम भी तेजी से उभरा था. किशोर के लगातार दिल्ली में डेरा डाल कर रहने से भी इस चर्चा को बल मिला था, लेकिन अब खुद किशोर ही इस बात से इनकार कर रहे हैं. किशोर के मुताबिक वे इस दौड़ में नहीं हैं. रविवार को भी राज्यसभा का उम्मीदवार घोषित न होने से यह तय है कि कांग्रेस अब अंतिम समय में ही उम्मीदवार घोषित करेगी.

नामांकन के लिए दस मार्च तक का समय तय है. ऐसे में नामांकन दाखिल कराने के लिए तैयारी करने देने के लिए भी कांग्रेस को सोमवार तक नाम घोषित करना होगा.