पूर्णागिरि मेला शुरू, 5 जून तक चलेगा आयोजन

होली के ठीक अगले दिन यानी शनिवार 7 मार्च को उत्तर भारत के प्रसिद्ध पूर्णागिरि मेले का विधिवत शुभारंभ हो गया. ठुलीगाड़ प्रवेश द्वार पर दर्जा मंत्री विधायक हेमेश खर्कवाल ने मेले का उद्घाटन किया.

मेले के पहले दिन सवा लाख से ज्यादा श्रद्धालुओं ने मां पूर्णागिरि के दर्शन किए. श्रद्धालुओं की भीड़ को नियंत्रित करने में स्थानीय प्रशासन के पसीने छूट गए. यह मेला 5 जून तक चलेगा और मेले के पहले दिन धाम के प्रमुख पुजारी पं. भुवन चंद्र पांडेय ने पूजा-अर्चना कराई.

इसके बाद कैंप कार्यालय में जिला पंचायत अध्यक्ष खुशाल सिंह अधिकारी की अध्यक्षता में हुए कार्यक्रम में दर्जा मंत्री खर्कवाल ने पूर्णागिरि धाम में सुविधाओं के विस्तार का आश्वासन दिया. मंदिर समिति अध्यक्ष किशन तिवारी ने कहा कि व्यवस्थाओं से जुड़े विभागों, संस्थाओं और लोगों के सहयोग से ही मेले का सफल आयोजन होता आया है. खुशाल सिंह अधिकारी ने मेले में तैनात अधिकारियों और कर्मचारियों को व्यवस्था के प्रति सजग रहने को कहा.

मेला मजिस्ट्रेट ने बताया कि प्रवेश द्वार पर दर्शनार्थियों की एंट्री हो रही है. पहले दिन सवा लाख से ज्यादा भक्तों ने मां पूर्णागिरि के दर्शन किए हैं. इस मौके पर मेला मजिस्ट्रेट एसडीएम जेसएस राठौर, मेला अधिकारी शेर सिंह परगांई सहित कई लोगों ने अपनी उपस्थिति दर्ज कराई.
[manual_related_posts]

पुलिस अधीक्षक डीएस कुंवर ने कहा कि मां पूर्णागिरि के दर्शनों के लिए आने वाले यात्रियों को पुलिस पूरा सम्मान और सहयोग देगी. उन्होंने कहा, सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किए गए हैं. सुरक्षा में किसी तरह की चूक नहीं होने दी जाएगी. उन्होंने मेले में पुलिस का प्रबंधक और व्यवस्था दोनों दुरुस्त रखने का भरोसा दिया है.

मां पूर्णागिरि धाम में इस बार भिखारियों पर पूरी तरह से प्रतिबंध लगाया गया है. सीओ पीएस पांगती ने बताया कि एसपी के निर्देश पर टनकपुर से लेकर पूर्णागिरि धाम तक बहुरुपिये भिखारियों को बसने नहीं दिया गया है.