पतंजलि में बाबा रामदेव ने खेली फूलों की होली

योगगुरु बाबा रामदेव और उनके सहयोगी आचार्य बालकृष्ण ने पतंजलि योगपीठ में कार्यकर्ताओं, सेवाव्रतियों, छात्र-छात्राओं के साथ फूलों की होली खेली. इसके अलावा होली के मौके पर औषधीय पदार्थों का लेप भी किया गया. सभी ने एक-दूसरे को मिठाइयां खिलाकर होली की बधाई दी.

बाबा रामदेव ने कहा कि होली सामाजिक, धार्मिक और वैज्ञानिक दृष्टि‍ से भी महत्वपूर्ण है. आचार्य बालकृष्ण ने कहा, जब दो ऋतुओं का मिलन होता है तो वायुमंडल में पर्यावरणीय विक्षुब्धता का वातावरण बन जाता है. अग्नि तत्व दो मौसमों के बीच आई विक्षुब्धता को समित करता है. इसके चलते गांव-गांव में होली जलाने का विधान बनाया गया है.

[manual_related_posts]
धार्मिक नगरी हरिद्वार में भूमिहार ब्राह्मण परिषद की ओर से सादगी से होली महोत्सव मनाया गया. लोगों ने एक-दूसरे को चंदन का लेप लगाकर फूल बरसाए.