Google ने ढूंढ़ी एक परिवार की खुशी, मिल गई 6 महीने पहले खोई बेटी

गूगल दुनिया का नंबर एक सर्च इंजन है. कोई भी चीज तलाशनी हो तो आप झट से गूगल के पास पहुंच जाते हैं. लेकिन गूगल ने एक परिवार को ऐसी खुशी ढूंढकर दी कि अब तो गूगल की जय-जय कार होनी ही चाहिए. दरअसल गूगल की मदद से हरिद्वार की कनखल पुलिस ने उत्तर प्रदेश के फैजाबाद में एक परिवार की खुशियां लौटा दी. छह महीने से लापता हुई बेटी के मिलने से उसके माता-पिता भी खुशी से झूम उठे. गरीब तबके से ताल्लुक रखने वाले अभिभावक बार-बार पुलिस का धन्यवाद करते रहे.

दो दिन पहले कनखल पुलिस को क्षेत्र में घूमते हुए 12 साल की एक किशोरी मिली थी. थाने लाकर की गई पूछताछ में किशोरी ने अपना नाम सुमन पुत्री रामनरेश बताया था. उसने बताया था कि वो फैजाबाद की रहने वाली है, लेकिन वह अपने गांव का नाम नहीं बता पा रही थी.

एसओ रितेश शाह ने बताया कि गूगल पर फैजाबाद जिले के गांवों के नाम खोजे गए. इसमें से किशोरी ने एक गांव पुराया को अपना गांव बताया. फिर गांव के थाना क्षेत्र पटरंगा का नंबर खोजा गया.

फिर पटरंगा पुलिस की मदद से गांव के प्रधान से संपर्क किया गया. इसके बाद किसी तरह से किशोरी के पिता से संपर्क हो पाया. एसओ ने बताया कि किशोरी का भाई हिमाचल प्रदेश के पावंटा में नौकरी करता है और छह महीने पहले किशोरी अपने भाई के साथ गई थी, लेकिन भाई-भाभी के डांटने पर एक दिन वो बिना बताए कहीं चली गई.

तब से वो हरिद्वार में रहकर भीख मांगकर गुजर-बसर कर रही थी. पुलिस की सूचना पर सोमवार को माता पिता व भाई पहुंच गए. एसओ ने बताया कि छह महीने बाद बेटी को पाकर पूरा परिवार भावुक हो गया. पुत्री को उसके पिता के हवाले कर दिया गया. इससे पहले किशोरी ने भाई के साथ जाने से साफ इंकार कर दिया था.