गैरसैंण में इन्फ्रास्ट्रक्चर सुविधाओं के लिए मुख्यमंत्री देंगे 10 करोड़ रुपये

देहरादून।… गैरसैंण विकास परिषद को क्षेत्रीय इन्फ्रास्ट्रक्चर सुविधाओं के विकास के लिए 10 करोड़ रुपये दिए जाएंगे. उत्तराखंड की प्रस्‍तावित राजधानी गैरसैंण के अलावा अल्मोड़ा जिले के प्रमुख शहर चौखुटिया को भी विनियमित क्षेत्र बनाया जाएगा. गैरसैंण व चौखुटिया के लिए संपर्क मार्गों का निर्माण किया जाएगा. भराड़ीसैंण, गैरसैंण व चौखुटिया को आदर्श पर्वतीय नगर के रूप में विकसित किए जाने की योजना है.

शुक्रवार को बीजापुर अतिथि गृह में गैरसैंण विकास परिषद की बैठक को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री हरीश रावत ने ये घोषणाएं की. उन्होंने कहा कि गैरसैंण में आधुनिक सुविधाओं से लैस अस्पताल, राजीव गांधी आवासीय अभिनव स्कूल की स्थापना के साथ ही बिजली आपूर्ति के लिए अलग से डिवीजन स्थापित किया जाएगा. उन्होंने निर्देश दिए कि गैरसैंण में आगामी 25 सालों की आवश्यकता को ध्यान में रखते हुए इन्फ्रास्ट्रक्चर सुविधाओं को विकसित किया जाए.

गैरसैंण व चौखुटिया में अतिथि गृहों के निर्माण के साथ ही पेयजल योजनाओं की क्षमता विकास पर ध्यान दिया जाए. उन्होंने पीडब्ल्यूडी को निर्देश दिए कि गैरसैंण को जोड़ने के लिए बाईपास सड़कों के निर्माण के साथ ही नई सड़कों के प्रस्ताव तैयार किए जाएं ताकि अन्य जिलों से यहां के लिए कम दूरी वाला सीधा संपर्क मार्ग तैयार हो सके.

मुख्यमंत्री ने सचिव नगर विकास एवं नगर नियोजक को निर्देश दिए कि वे विनियमित क्षेत्र का प्लान बनाएं, ताकि इन नगरों का आधुनिक ढंग से विकास हो. इसमें भविष्य की प्रशासनिक व्यवस्थाओं के मद्देनजर सरकारी कार्यालय, स्कूल, अस्पताल, पार्क आदि के लिए स्थान की उपलब्धता सुनिश्चित हो. मेहलचोरी से पांडवाखाल तक का क्षेत्र भविष्य की आवश्यक्ताओं के लिहाज से विकसित किया जाए.

मुख्यमंत्री ने गैरसैंण विकास परिषद के कार्यालय भवन, आवश्यक कार्मिक व संसाधनों की उपलब्धता के भी निर्देश दिए. उन्होंने पीडब्ल्यूडी को सड़कों की योजना, टाउन प्लानर को उपलब्ध कराने को कहा. ताकि उसके आधार पर कार्ययोजना बनाई जा सके. अपर सचिव पीडब्ल्यूडी अरविंद सिंह ह्याकी ने गैंरसैण, चौखुटिया आदि क्षेत्रों में बनाई जाने वाली सड़कों का विवरण प्रस्तुत किया.