केदारनाथ आपदा से बिछड़ी एक और महिला पिथौरागढ़ के मस्तमानू में मिली

एक हफ्ते पहले जिला मुख्यालय पिथौरागढ़ में टूटी-फूटी मराठी बोलने वाली एक महिला मिली थी और अब मस्तमानू में भी ऐसी ही एक अनजान महिला भटकते हुए मिली है. बताया जा रहा है कि मस्तमानू में यह महिला पिछले दो दिन से घूम रही है. पिथौरागढ़ में मिली महिला की ही तरह इस महिला की मानसिक हालत भी ठीक नहीं है.

स्थानीय लोगों को उसकी भाषा समझ नहीं आ रही है, लेकिन अंदाजा लगाया जा रहा है कि वह दक्ष‍िण भारत के किसी राज्य कीर रहने वाली होगी. स्थानीय लोगों को अंदेशा है कि पिथौरागढ़ में मिली टूटी-फूटी मराठी बोलने वाली महिला की ही तरह यह महिला भी 2013 में आयी केदारनाथ आपदा में अपने परिजनों से बिछड़ गई होगी.

मस्तमानू के निवासियों के निवासियों के अनुसार तीन दिन पहले यह महिला कस्बे में पहुंची है. उसकी उम्र करीब 45 साल है और लोगों को उसकी भाषा समझ में नहीं आ रही है. वह दिनभर मस्तमानू मंदिर के आसपास घूमती रहती है और शाम को वहां के स्थानीय दुकानदार इकबाल अहमद की दुकान के आगे सो जाती है.

लोगों ने उसे कंबल एक भी दे दिया है. स्थानीय लोगों का कहना है कि महिला उत्तराखंड की नहीं है. वह कभी-कभार कुछ शब्द बोलती है, लेकिन उसके नाम और पते का अंदाजा नहीं लग पा रहा है. लोगों को आशंका है कि यह महिला केदारघाटी में आई आपदा के समय बिछड़ी हुई हो सकती है. देवलथल में मिली महिला इस समय निराश्रित महिला केंद्र में है.

इससे पहले पिथौरागढ़ के देवलथल में टूटी-फूटी मराठी बोल रही एक महिला मिली थी. लोगों ने आशंका जताई कि वह केदारनाथ से भटकी श्रद्धालु हो सकती है. इस बात को इससे भी बल मिलता है, क्योंकि देवलथल से सड़क थल, चौकोड़ी होते हुए बागेश्वर मिलती है और बागेश्वर से ग्वालदम. ग्वालदम चमोली जिले से सटा है और चमोली जिले में ही केदारनाथ धाम है.

ग्वालदम से पिथौरागढ़ के लिए नियमित केमू की बसें चलती हैं. ऐसे में संभव है कि महिला चमोली की तरफ से ग्वालदम होते हुए किसी बस में यहां देवलथल पहुंची होगी. देवलथल पिथौरागढ़ से 30 किमी दूर है. पिछले दिनों उत्तरकाशी में भी राजस्थान की एक महिला विक्षिप्त हालत में मिली थी, जिसे उसका पति अपने साथ ले गया. इसके एक-दो दिन बाद हरिद्वार के कांगड़ी गांव में भी एक महिला देखी गई, जिसकी मानसिक हालत ठीक नहीं थी.

12 फरवरी को देवलथल पहुंची इस महिला की उम्र 45-50 वर्ष के बीच बताई जा रही है. दुकानदार अनिल पांडे ने इसकी जानकारी जिला पंचायत सदस्य जगदीश कुमार को दी. जगदीश ने बताया कि महिला की मानसिक हालत ठीक नहीं है. महिला को नारी निकेतन भेज दिया गया.