आज है महाश‍िवरात्रि, यमकेश्वर में श‍िवरात्रि मेले की तैयारियां पूरी

यमकेश्वर।… मंगलवार को महाश‍िवरात्रि है और नीलकंठ महादेव मंदिर में महाशिवरात्रि पर्व पर लगने वाले मेले के लिए तैयारियां जोरों पर हैं. महाशिवरात्रि पर्व को लेकर रुड़की और हरिद्वार शहर में भी शिव मंदिरों को भव्य रूप दिया जा रहा है. फूलों और लाइटों से मंदिरों को विशेष रूप से सजाया जा रहा है.

पौड़ी जिले के यमकेश्वर ब्लॉक के मेले में व्यवस्थाओं के लिए डीएम व पुलिस अधीक्षक पौड़ी ने विभागों के अधिकारियों के साथ पहले ही बैठक करके तैयारियों की समीक्षा कर ली है. मेले के दौरान सभी व्यवस्थाएं चाकचौबंद करने के निर्देश अधिकारियों को दिए गए हैं.

पिछले शनिवार को नीलकंठ महादेव मंदिर परिसर में आयोजित बैठक में जिलाधिकारी सीएस भट्ट ने नीलकंठ में शिवरात्रि मेले से संबंधित सभी विभागों के अधिकारियों से कार्यों की जानकारी लेने के साथ कार्यों की समीक्षा की थी. उन्होंने सभी लंबित कार्य जल्द पूरे करने के निर्देश दिए थे, जो अब लगभग पूरे हो गए हैं.

ट्रैफिक व्यवस्था पर भी खास नजर
पुलिस अधीक्षक अजय जोशी ने मेले के दौरान ट्रैफिक व्यवस्था व मंदिर परिसर में व्यवस्था बनाने के लिए जूनियर अध‍िकारियों को निर्देश दिए. उन्होंने व्यापारियों व ड्राइवरों से यात्रियों के साथ मधुरता से पेश आने की अपील की. उन्होंने कहा कि कांवड़ मेले की ही तरह शिवरात्रि पर भी ट्रैफिक प्लान प्रभावी रहेगा.

पार्वती मंदिर मार्ग पर पार्किंग तक गाड़ि‍यों के संचालन की अनुमति भी पुलिस अधीक्षक ने जारी की. बैठक के बाद जिलाधिकारी ने मीडिया से बातचीत करते हुए कहा कि लक्ष्मणझूला-दुगड्डा व पीपलकोटी-नीलकंठ मार्ग पर एशियन डेवलपमेंट बैंक (एडीबी) द्वारा टेंडर लगा दिए गए हैं. टेंडर प्रक्रिया पूर्ण होने के बाद जल्द ही इन मार्गों पर कार्य शुरू कर दिया जाएगा. उन्होंने बताया कि लक्ष्मणझूला व स्वर्गाश्रम क्षेत्र में ट्रैंचिंग ग्राउंड व पार्किंग के लिए जमीन का चयन किया जा रहा है.

शिव मंदिरों को दिया जा रहा भव्य रूप
महाश‍िवरात्रि के लिए रुड़की शहर में जोर-शोर से तैयारियां शुरू हो गई हैं. सिविल लाइन स्थित श्री सिद्धेश्वर शिव मंदिर, शिव शक्तिसाई मंदिर एवं श्री जीवन मुक्त प्रेम मंदिर, विघ्नेश्वर महादेव मंदिर आइआरआइ, श्री लक्ष्मीनारायण मंदिर नहर किनारे, श्री शिव हनुमान मंदिर सब्जी मंडी चौक, श्री शिव मंदिर पहाड़ी बाजार, प्राचीन शिव मंदिर ढंडेरा सहित शहर के विभिन्न शिव मंदिरों को महाशिवरात्रि के लिए सजाया जा रहा है.shiv_parvati

महाशिवरात्रि के पावन अवसर पर सुबह चार बजे ही प्राचीन श्री सिद्धेश्वर शिव मंदिर के कपाट खुल जाएंगे. इसके बाद सुबह से लेकर रात तक शिवभक्त शिवलिंग पर जल चढ़ा सकेंगे. उनके अनुसार मंदिर को फूलों और लाइटों से सजाया जा रहा है. श्री शिव हनुमान मंदिर को भी भव्य तरीके से सजाया जा रहा है. इस दिन मंदिर में विशेष पूजन किया जाएगा. इसके अलावा भजन-कीर्तन का भी आयोजन किया जाएगा.

रुद्राभिषेक का खास महत्व
महाशिवरात्रि के दिन रुद्राभिषेक का बहुत महत्व होता है. दूध, दही, घी, शक्कर, शहद, गंगाजल, तुलसी, भांग, बेलपत्र, धतूरा आदि पूजन सामग्रियों को शिवलिंग में अर्पित करने से भक्तों को अनंत पुण्य फल की प्राप्ति होती है और संकटों से मुक्ति मिलती है.

भोले बाबा हो जाते हैं जल्द खुश
भगवान शिव शीघ्र प्रसन्न होने वाले देव कहे जाते हैं. शिवरात्रि‍ पर्व त्रयोदशी तिथि फाल्गुन मास कृष्ण पक्ष की तिथि को हर साल मनाई जाती है. इस व्रत को बालक, स्त्री, पुरुष, वृद्ध सभी कर सकते हैं.