जन सेवाएं जन-जन तक पहुंचाने के लिए टीम के रूप में काम करें: रावत

देहरादून।… राज्य के मुख्यमंत्री हरीश रावत ने कहा कि लोक सेवाओं को आम जनता तक संतोषजनक ढंग से पहुंचाने के लिए राजनीतिक नेतृत्व, अधिकारियों और कर्मचारियों को एक टीम के रूप में काम करना चाहिए. उन्होंने कहा, इन सेवाओं को अंतिम पंक्ति में खड़े व्यक्ति तक पहुंचाना होगा. जनहित में एक बार जो फैसला लिया जा चुका है, उसे सफल बनाने में किसी भी तरह की कमी नहीं रखी जानी चाहिए.

हरीश रावत सचिवालय में गुरुवार को भारतीय प्रशासनिक सेवा के अधिकारियों के तीन दिनी सम्मेलन के पहले दिन बतौर मुख्य अतिथि संबोधित कर रहे थे. उन्होंने कहा कि जनतांत्रिक व्यवस्था में परिणाम के आधार पर ही सफलता का मूल्यांकन होता है. इसके लिए सेवाओं के डिलीवरी सिस्टम पर खास तौर पर ध्यान देना होगा. यही प्रशासन की सफलता का पैमाना है. मौजूदा दौर में लोगों की सरकार से बहुत ज्यादा अपेक्षाएं हैं. जनता अब तुरंत परिणाम चाहती है.

मुख्यमंत्री ने कहा, जन सेवाओं की डिलीवरी के साथ फॉलोअप बेहद जरूरी है. यही नहीं, उन्होंने वरिष्ठ अधिकारियों को नसीहत दी कि उन्हें युवा अधिकारियों से अपने अनुभव साझा करने चाहिए. मीडिया में अक्सर आलोचना-समालोचना होती है. कई बार मीडिया कमियों को भी उजागर करता है. इन्हें सकारात्मक तरीके से लेना चाहिए. उन्होंने कहा, आलोचनाओं से आत्मविश्वास कम नहीं होना चाहिए.

रावत ने कहा कि अधिकारियों में पहल करने की क्षमता होनी चाहिए. राज्य में अधिकारी विपरीत परिस्थितियों में काम कर रहे हैं. अधिकारियों को अपनी योग्यता व क्षमता का प्रदर्शन करने की अपार संभावनाएं हैं. मुख्य सचिव एन. रविशंकर ने विश्वास दिलाया कि राज्य सरकार की प्राथमिकताओं को पूरा करने के लिए अधिकारी वर्ग अपनी पूरी योग्यता व क्षमता से काम कर रहा है.

लोक सेवाओं की डिलीवरी सर्वोच्च प्राथमिकता है. मानव विकास सूचकांक पर विशेष ध्यान देने की आवश्यकता है.