दिल्ली के ‘शून्य’ ने बढ़ाई उत्तराखंड कांग्रेस के चिंताएं

देहरादून।… दिल्ली विधानसभा चुनाव के नतीजों ने उत्तराखंड कांग्रेस भी में बेचैनी बढ़ा दी. चुनाव नतीजों के दिन प्रदेश मुख्यालय में बैठे प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष किशोर उपाध्याय के चेहरे पर भी मायूसी साफ नजर हा रही थी. लेकिन वे दिल्ली में पार्टी का सूपड़ा साफ होने के लिए आम आदमी पार्टी (AAP) के हवाई वायदों की झड़ी को वजह बता रहे हैं.

उधर मुख्यमंत्री हरीश रावत ने दिल्ली चुनाव के नतीजों को कांग्रेस और बीजेपी दोनों के लिए सबक बताया. इसके साथ ही उन्होंने AAP की जीत पर दिल्ली की जनता को बधाई भी दी.

मंगलवार को प्रदेश कांग्रेस मुख्यालय में भी लगभग पूरे दिन सन्नाटा छाया रहा. प्रदेश अध्यक्ष किशोर उपाध्याय को छोड़ कोई दूसरा बड़ा नेता कांग्रेस भवन में दिखायी नहीं दिया. हालांकि कुछ पार्टी कार्यकर्ता कार्यालय में दिखाई दिए. चुनाव नतीजों की तस्वीर जैसे-जैसे साफ होती गई, कार्यकर्ताओं पर सूपड़ा साफ होने का सदमा हावी होता चला गया.

दूसरे के दुख से खुश होने या संतुष्ट होने की कहावत भी यहां सच होती देखी गई. कांग्रेस की हार पर मायूसी के साथ ही बीजेपी की करारी हार की संतुष्टि भी कांग्रेस कार्यकर्ताओं के चेहरे पर साफ दिखाई दे रही थी.

rawat_speachपार्टी की करारी हार के लिए कांग्रेस के स्थानीय कार्यकर्ता कई तरह के कारण भी गिनाते नजर आए. हालांकि, प्रदेश अध्यक्ष किशोर उपाध्याय ने इसे पूरी तरह से AAP व बीजेपी के राजनीतिक षडयंत्र का नतीजा बताया. उनका कहना है कि इन दोनों ही पार्टियों ने मिलकर कांग्रेस के खिलाफ माहौल बनाया.

‘आप’ ने दिल्लीवासियों को मुफ्त बिजली-पानी देने तक के वायदे कर दिए, मगर सत्ता में आने के बाद अब ‘आप’ की सबसे बड़ी परीक्षा मई-जून में होने वाली है, जब बिजली व पानी दोनों का संकट गहरा जाता है.