यहां आपको भविष्य की चुनौतियों के लिए तैयार किया जाता है

हल्द्वानी।… बड़े-बड़े इंस्टीट्यूट और यूनिवर्सिटी से पास होकर भी युवा आज सड़कों पर भटक रहे हैं. उनके पास टेक्निकल डिग्री या डिप्लोमा सिर्फ दिखाने मात्र को है. बात प्रैक्टिकल नॉलेज की आती है तो उनके पसीने छूटने लगते हैं. असल में गलती उन नौजवानों की नहीं बल्कि‍ श‍िक्षा के बाजारीकरण की है. उन बड़े-बड़े इंस्टीट्यूट और यूनिवर्सिटी में किताबी ज्ञान तो उनके दिमाग में ठूंसा जाता है, लेकिन प्रैक्टिकल नॉलेज से वे महरूम रह जाते हैं. ऐसे में जरूरत होती है एक साथी की जो सही रास्ता दिखाए और मंजिल तक पहुंचाने में हर संभव मदद करे. ऐसे समय में याद आता है ट्रायंगुलम… जी हां ट्रायंगुलम का विजन ही ‘Better Technology, Better Life’ है.

ट्रायंगुलम टेक्नोलॉजीज कोई बहुत बड़ा वेंचर नहीं है. बल्कि एक ऐसे नौजवान ने हल्द्वानी के अपने घर के एक कमरे में स्मार्टक्लास के रूप में शुरुआत की है, जिसे विभन्न शहरों व क्षेत्रों में काम करने का लगभग 15 साल का अनुभव है. अपने अनुभव के दम पर युवाओं को प्रेरित करने के लिए सॉफ्टवेयर इंजीनियर प्रदीप पाठक ने ये शुरुआत की है. वे किताबी ज्ञान को सीधे इंडस्ट्री से जोड़कर युवाओं को लाभान्वित करते हैं, ताकि नई पीढ़ी को अपने अनुभव के आधार पर प्रैक्टिकल नॉलेज देकर इंडस्ट्री के लिए तैयार किया जा सके. उनका मकसद युवाओं को कंप्यूटर की प्रैक्टिकल नॉलेज देकर उत्तराखंड के नौजवानों को काबिल बनाना है, ताकि वो स्वयं अपने पैरों पर खड़े होकर दुनिया का सामना कर सकें.

ट्रायंगुलम टेक्नोलॉजीज में सॉफ्टवेयर, वेबसाइट डेवलपमेंट, सर्वर मैनेजमेंट, CCNA नेटवर्किंग ट्रेनिंग, हार्डवेयर ट्रेनिंग की प्रैक्टिकल नॉलेज पर मुख्य रूप से ध्यान दिया जाता है. यहां किताबी ज्ञान को व्यहारिक रूप में मूर्त रूप दिया जाता है. यहां युवाओं को छूट दी जाती है कि वो अपनी रुचि के अनुसार कोर्स चुन सकें. उत्तराखंड में ज्यादातर युवाओं को पता ही नहीं होता है कि आखिरकार उनको किस क्षेत्र में जाना चाहिए, कारण कई हो सकते हैं, लेकिन रास्ता प्रदीप अपने इस स्मार्टक्लास में दिखाते हैं. इसके लिए वे समय-समय पर नौजवानों की रुचि का गंभीरता से अध्ययन भी करते हैं और उनके लिए सही फील्ड का चुनाव करने में मदद करते हैं. वे युवाओं को ऐसे प्रोजेक्ट्स पर काम करने का मौका देते हैं जो कंपनी या इंटरव्यू में उन्हें बाकियों से एक कदम आगे रख सकें.

आगे का प्लान ये है कि प्रदीप जल्द ही कॉर्पोरेट स्तर पर अपने बनाए इस ट्रेनिंग प्रोग्राम को ले जाने वाले हैं, तांकि काम पर जुटे कर्मचारियों को भी कंप्यूटर शिक्षा के लिए तैयार किया जा सके. यहां ट्रायंगुलम टेक्नोलॉजीज में स्वामी विवेकानंद के उस वाक्य को हमेशा याद रखा जाता है, जिसमें उन्होंने कहा है, ‘हमें हर व्यक्ति को अपने सपने पूरे करने के लिए उसके संघर्ष में मदद करनी चाहिए और यह हमारी ड्यूटी भी है. उसे सच्चाई से सबसे करीब पहुंचाने के लिए हमें हर संभव संघर्ष करना चाहिए.’

यहां करें संपर्क:

cropped-neworg2Triangulum Technologies,

“Atulyam”, Sarvodaya Colony,
Opp. Ranbir Garden, Dhanmill / ITI road,
Daheria, Haldwani
General email: info@triangulum.in

Admissions:
Registrations are open.
Phone: +91-9456780463, 8171013341.
Land Line: +91-5946-219383.

—Advertorial