भूत, भविष्य और वर्तमान की सटीक गणना करने वाला विज्ञान है ज्योतिष

ऋषिकेश।… ज्योतिष भूत, भविष्य और वर्तमान की सटीक गणना करने वाला विज्ञान है. माघ पूर्णिमा पर ऋष‍िकेश में आयोजित विशाल ज्योतिष सम्मेलन में विद्वानों ने कहा कि ज्योतिष सटीक गणना का सबसे उपयुक्त माध्यम है.

मंगलवार को तपोवन में आयोजित ज्योतिष सम्मेलन का उद्घाटन उत्तराखंड के सभी सिद्धपीठों से पहुंचे प्रतिनिधियों ने मंत्रोच्चार के साथ दीया जलाकर किया. जगदंबा प्रसाद कोठियाल यहां मुख्य वक्ता थे और उन्होंने कहा कि ज्योतिष एक ऐसा विषय है, जो काल गणना के साथ भविष्य के सटीक परिणाम देता है.

मशहूर ज्योतिषाचार्य शिवचरण शास्त्री ने कहा, वर्तमान में ज्योतिष विद्या को संरक्षण की जरूरत है. आचार्य शांति प्रसाद मैठाणी ने ज्योतिष के प्रचार-प्रसार व संरक्षण के लिए सभी विद्वानों व जानकारों से एक मंच पर आने का आह्वान किया. इस दौरान राजेंद्र भंडारी, रमेश लेखवार, राकेश बेलवाल आदि ने भी अपने विचार व्यक्त किए.

सम्मेलन में सेम मुखेम, सुरकंडा, चंद्रबदनी, काली मठ, कुंजापुरी आदि प्रसिद्ध सिद्धपीठों के प्रतिनिधियों के अलावा संस्कृत विद्वानों व ज्योतिषाचार्यों ने शिरकत की. लोक गायक विनोद बिजल्वण ने मां कुंजापुरी की वंदना व बसंत गीत प्रस्तुत कर समा बांध दिया.

तपोवन घाट पर गंगा आरती
astro

तीर्थनगरी ऋष‍िकेश के तपोवन क्षेत्र में भी अब श्रद्धालु गंगा मैया की भव्य आरती में शामिल हो पाएंगे. सार्वजनिक महामंगल श्री गंगा आरती समिति ने मंगलवार को माघ पूर्णिमा के अवसर पर तपोवन घाट पर सांध्यकालीन गंगा आरती का शुभारंभ किया. अब यहां हर शाम गोधूली बेला में वैदिक रीति से संगीत व भजनों के साथ तीन ऋषिकुमारों के द्वारा मां गंगा की आरती की जाएगी. मंगलवार को गंगा आरती के शुभारंभ अवसर पर समिति से जुड़े विवेक नौटियाल, ललित बलोनी, दीपक अंथवाल आदि उपस्थित थे.