विश्वविद्यालय स्तर पर पहली बार होगी कुमाऊंनी भाषा की परीक्षा

अल्मोड़ा।… कुमाऊं विश्वविद्यालय की वार्षिक परीक्षा में पहली बार कुमाऊंनी भाषा विषय की परीक्षा होगी. उत्तराखंड के कुमाऊं अंचल की भाषा ‘कुमाऊंनी’ का कद बढ़ाने की दिशा में उठे कदम के तहत पिछले साल कुमाऊं विवि के एसएसजे कैंपस अल्मोड़ा में कुमाऊंनी भाषा विभाग की मंजूरी मिली थी. गिने-चुने छात्रों के साथ ही सही, लेकिन इसका पहला बैच तैयार हो गया है, जो इस बार विश्वविद्यालय स्तर पर पहली बार स्थानीय भाषा विषय की परीक्षा देगा. इसके प्रश्नपत्रों के लिए पाठ्यक्रम का खाका पहले ही तैयार हो चुका.

सरकार की मंजूरी पर चालू सत्र से कुमाऊं विवि के एसएसजे परिसर अल्मोड़ा में खुले कुमाऊंनी हिन्दी विभाग ने काम करना शुरू किया. हिन्दी विभाग के ही कुछ प्रोफेसरों को फिलहाल इस भाषा को पढ़ाने का दायित्व भी सौंपा गया. इसके साथ ही इसमें 15 छात्रों ने एडमिशन लिया है. उन्होंने विवि की वार्षिक परीक्षा के लिए संस्थागत विद्यार्थी (इंस्टीट्यूशनल स्टूडेंट) के रूप में फार्म भरा है.

इनके अलावा उम्मीद है कि कई छात्र व्यक्तिगत परीक्षार्थी के रूप में इस विषय को चुनेंगे. आगामी महीनों में होने वाली कुमाऊं विवि की वार्षिक परीक्षा में इस बार पहला मौका होगा, जब विश्वविद्यालय स्तर पर कुमाऊंनी भाषा विषय की परीक्षा होगी. इसकी तैयारियां भी अन्य विषयों की तरह ही चल रही है.

कुमाऊंनी भाषा को विश्वविद्यालय के एक विषय के रूप में शामिल होने को कुमाऊंनी भाषा उत्थान की दिशा में अच्छा कदम माना जा रहा है. विश्वविद्यालय की पाठ्यक्रम समिति ने ग्रेजुएशन लेवल के लिए पाठ्यक्रम स्पष्ट कर दिया है. इसी के आधार पर अब आगामी परीक्षा में इस विषय के प्रश्नपत्रों की तैयारी की जा रही है.

ये है ‘कुमाऊंनी’ भाषा का सेलेबस

बीए पहला साल:  
पहला प्रश्नपत्र- कुमाऊंनी व्याकरण, वर्णमाला, शब्दावली, वाक्य विश्लेषण, मानकीकरण, विकास यात्रा आदि
दूसरा प्रश्नपत्र- कुमाऊंनी काव्य व कुमाऊंनी कवियों की रचनाएं
बीए दूसरा साल:   
पहला प्रश्नपत्र: कुमाऊंनी भाषा साहित्य व इतिहास
दूसरा प्रश्नपत्र: कुमाऊंनी गद्य नाटक, निबंध, उपन्यास, कहानी व यात्रा वृतांत
बीए तीसरा साल:  
पहला प्रश्नपत्र- प्रयोजन मूलक कुमाऊंनी व पत्र लेखन आदि
दूसरा प्रश्नपत्र- कुमाऊंनी लोक साहित्य