BPL परिवारों को बिना सिक्योरिटी गैस कनेक्शन, लेकिन…

हरिद्वार।… बीपीएल परिवार को बिना सिक्योरिटी जमा कराए नए गैस कनेक्शन उपलब्ध कराने की योजना इस साल के पहले दिन यानी 1 जनवरी से शुरू हो गई थी. लेकिन हरिद्वार जिले में एक महीने बाद भी इसकी किसी को भनक तक नहीं लगी. शनिवार को जब जिला आपूर्ति अधिकारी ने तेल कंपनियों की बैठक बुलाई तो इस योजना का खुलासा हुआ.

आम जनता की भालाई के लिए चलाई जाने वाली योजनाओं का क्या हश्र होता है, इसका सटीक उदाहरण इन दिनों हरिद्वार जिले में देखने को मिल रहा है. बीपीएल परिवारों की रसोई तक सब्सिडी वाले सिलेंडर पहुंचाने के लिए केंद्र सरकार की ओर से एक विशेष योजना चलाई जा रही है. योजना के तहत गरीबी रेखा से नीचे जीवन यापन करने वाले परिवारों को सिलेंडर और रेगूलेटर की सिक्योरिटी जमा किए बिना ही सब्सिडी वाले नए कनेक्शन उपलब्ध कराने हैं.

गौरतलब है कि जिले में लगभग तीन लाख परिवार बीपीएल और अंत्योदय की श्रेणी में आते हैं. जाहिर है इस योजना की जिले में बहुत ज्यादा जरूरत है. लेकिन तेल कंपनियों ने जनहित की इस योजना पर इस तरह चुप्पी साधी कि जनता तो दूर आपूर्ति विभाग तक को इसकी भनक नहीं लगी.

महीने भर से राज बनी यह योजना तब सामने आई जब जिला आपूर्ति अधिकारी ने लोगों की अन्य शिकायतों पर तेल कंपनियों की बैठक बुलाई थी. जबकि तेल कंपनियों को इस संबंध में पहले ही आपूर्ति विभाग के साथ मिलकर व्यापक प्रचार प्रसार करना चाहिए था.

गौरतलब है कि अब तक उपभोक्ता को नए कनेक्शन के लिए लगभग ढाई हजार रुपये खर्च करने होते थे. इसमें लगभग 1600 रुपये का सिलेंडर और रेगुलेटर होता है. शेष नौ सौ रुपये में रबर पाइप और प्रशासनिक शुल्क शामिल होता है. इस योजना से बीपीएल की श्रेणी में आने वाले लोगों को केवल 900 रुपये ही देने होंगे. फिलहाल यह पायलट प्रोजेक्ट के रूप में शुरू हुई है, इसलिए इसका लाभ सिर्फ 31 मार्च तक ही उठाया जा सकता है.

यह सुविधा का लाभ लेने के लिए उपभोक्ता को किसी भी गैस एजेंसी पर जाकर इसके लिए आवेदन करना होगा. सुविधा प्राप्त करने के लिए उन्हें सिर्फ बीपीएल कार्ड की कॉपी या किसी सक्षम अधिकारी से प्रमाणित बीपीएल क्रमांक आवेदन पत्र के साथ एजेंसी में जमा करना होगा.