पढ़ेगी-लिखेगी, सुकन्या समृद्धि योजना में पैसे जोड़ेगी घर की लक्ष्मी बिटिया रानी

घर में बेटी पैदा होते ही माता-पिता और समूचे परिवार को उसकी शादी और दहेज की चिंता सताने लगती है. हालांकि ये गलत है और उत्तरांचलटुडे में हमारा मानना है कि लड़कियों के प्रति ऐसा व्यवहार या सोच रखना ठीक नहीं है. फिर भी सरकार ने सुकन्या समृद्धि नाम से एक योजना शुरू की है. बेटी के हाथ पीले करने की चिंता हो या उच्च श‍िक्षा की, अब हर सपना आसानी से होगा अपना.

अब डाकघर में दस साल से कम उम्र की बच्ची का भी खाता खोला जाएगा. दस साल की उम्र पूरी करने के बाद वह स्वयं खाते को ऑपरेट कर सकेगी. केंद्र सरकार की ओर से शुरू की गई ‘सुकन्या समृद्धि योजना’ के अन्तर्गत डाकघर में फार्म पहुंचना शुरू हो गए हैं.

जनवरी में ही भारत सरकार की ओर से सुकन्या समृद्धि योजना का शुभारंभ किया गया है. इस योजना के तहत माता-पिता 10 साल से कम उम्र की बच्ची का डाकघर में खाता खुलवा सकते हैं. रुड़की डाकघर के पोस्ट मास्टर एसएन कुकरेती कहते हैं कि इस योजना के अन्तर्गत माता-पिता बच्ची के अकाउंट में एक साल में कम से कम एक हजार रुपये से लेकर डेढ़ लाख रुपये तक डाल सकते हैं. दस साल की उम्र के बाद बालिका स्वयं भी अपने खाते को ऑपरेट कर सकती है.

sukanya_pm

21 साल की उम्र पूरी होने के बाद यह खाता पूर्ण होगा. उन्होंने बताया कि इस खाते पर आयकर से छूट है, साथ ही डाक विभाग की ओर से 9.1 ब्याज दिया जाएगा. सीनियर सिटीजन के बाद इस खाते पर ही सर्वाधिक ब्याज है. इस योजना के फार्म डाकघर में आना शुरू हो गए हैं.