फांसी की सजा उम्रकैद में बदलने से निठारी के दोषी कोली की मां खुश

इलाहाबाद हाईकोर्ट ने निठारी हत्याकांड के आरोपी सुरेंद्र कोली की फांसी की सजा को उम्र कैद में बदल दिया है. हाईकोर्ट के फैसले के बाद यहां अल्मोड़ा के मौलेखाल में सुरेंद्र कोली की मां कुंती देवी बहुत खुश हैं. उनका कहना है कि उन्हें भगवान पर पूरा भरोसा है. यही कारण है कि 8 साल बाद उनका बेटा फांसी के फंदे से बच गया है. कुंती देवी ने अपने बेटे को निर्दोष बताया और कहा कि असली दोषी उसका मालिक मनिंदर सिंह पंढेर है. उन्होंने ये भी उम्मीद जताई की पंढेर को एक दिन जरूर फांसी की सजा मिलेगी.

जैसे ही कुंती देवी को किसी ने इलाहाबाद हाईकोर्ट के फैसले की जानकारी दी वह बार-बार भगवान को धन्यवाद देने लगी. कोली की मां बोलीं, ‘मुझे पूरा भरोसा है कि मेरा बेटा एक न एक दिन जेल से छूट कर जरूर आएगा.’

surinderkoli

कोली की मां की तमन्ना है कि वो अपने बेटे को उसकी पत्नी और बच्चों के साथ देखे. कोली को फांसी की सजा सुनाए जाने के बाद से उसका परिवार भी बिखर गया है. कोली की पत्नी बच्चों को साथ लेकर भाई के साथ चली गई है. कोली के तीन अन्य भाई दिल्ली में प्राइवेट नौकरी करते हैं और घर पर मां अकेली रहती है.

हाल ही में कोली की मां को मेरठ जेल ले जाकर बेटे से मुलाकात कराने वाले जिला पंचायत सदस्य नारायण सिंह ने भी सुरेंद्र कोली की फांसी की सजा टलने पर खुशी जाहिर की. उन्होंने कहा, ईश्वर गरीब की मदद जरूर करता है और असली गुनहगार को सजा जरूर मिलनी चाहिए.